कैल्शियम और हृदय स्वास्थ्य: वे कैसे जुड़े हुए हैं?

लंबे समय से हमें कैल्शियम की मात्रा के कारण दूध पीने के लिए कहा जाता रहा है क्योंकि यह हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने और बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसे प्राथमिक खनिज माना जाता है जो हड्डियों में मौजूद होता है, और इसलिए यह संरचना और मजबूती प्रदान करता है। इसीलिए जीवन भर पर्याप्त कैल्शियम का सेवन महत्वपूर्ण है! पता चला, कैल्शियम और हृदय भी किसी न किसी तरह जुड़े हुए हैं। दरअसल, कैल्शियम की कमी दिल के लिए बिल्कुल भी अच्छी नहीं है!

कैल्शियम और हृदय के बीच संबंध का पता लगाने के लिए, हेल्थ शॉट्स ने एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट, मुंबई के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. अभिजीत बोरसे से परामर्श लिया।

कैल्शियम सिर्फ हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए ही अच्छा नहीं है। छवि सौजन्य: शटरस्टॉक

कैल्शियम के स्वास्थ्य लाभ

कैल्शियम एक आवश्यक खनिज है जिसकी हमारे शरीर को विभिन्न महत्वपूर्ण कार्यों के लिए आवश्यकता होती है। दूध के अलावा, आप कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे दही, पालक, ब्रोकोली और अन्य हरी सब्जियों से कैल्शियम की मात्रा प्राप्त कर सकते हैं। यहाँ बताया गया है कि कैल्शियम स्वास्थ्य के लिए क्यों महत्वपूर्ण है:

1. मांसपेशियों का कार्य

हड्डियों और दांतों के अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के अलावा, कैल्शियम मांसपेशियों के उचित संकुचन और विश्राम के लिए भी आवश्यक है, जिसमें गति, दिल की धड़कन और सांस लेने में शामिल मांसपेशियां शामिल हैं। डॉ. बोरसे बताते हैं कि जब तंत्रिका आवेग मांसपेशियों तक पहुंचता है, तो कैल्शियम आयन निकलते हैं, जिससे मांसपेशियों में संकुचन शुरू हो जाता है।

2. तंत्रिका तंत्र का कार्य

कैल्शियम पूरे शरीर में तंत्रिका संकेतों को प्रसारित करने में शामिल है। यह न्यूरोट्रांसमीटर, रसायनों की रिहाई में मदद करता है जो तंत्रिका कोशिकाओं को एक दूसरे के साथ संवाद करने की अनुमति देते हैं। इसलिए, कैल्शियम तंत्रिका तंत्र के सामान्य कामकाज को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है।

3. रक्त का थक्का जमना

रक्त का थक्का जमने के लिए कैल्शियम आवश्यक है, यह एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो चोट लगने के बाद अत्यधिक रक्तस्राव को रोकती है। यह कई प्रोटीनों को सक्रिय करने में मदद करता है जो थक्के बनने की प्रक्रिया में शामिल होते हैं।

4. हार्मोन स्राव

कैल्शियम विभिन्न हार्मोनों के स्राव में शामिल होता है, जिसमें इंसुलिन भी शामिल है, जो रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है, और पैराथाइरॉइड हार्मोन, जो शरीर में कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करता है। ये हार्मोन समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और हमें अपना फ़ीड अनुकूलित करने दें।

अभी वैयक्तिकृत करें

कैल्शियम और हृदय
कैल्शियम की कमी आपके दिल के लिए अच्छी नहीं है। छवि सौजन्य: अनस्प्लैश

क्या कैल्शियम की कमी से हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं?

यदि कैल्शियम कम हो जाए तो हृदय पर क्या प्रभाव पड़ता है? 2017 में, लॉस एंजिल्स में सीडर्स-सिनाई हार्ट इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने पाया कि कम कैल्शियम वाले लोगों में कार्डियक अरेस्ट होने की संभावना अधिक हो सकती है। डॉ बोरसे का कहना है कि कैल्शियम की कमी हृदय रोगों का प्रत्यक्ष कारण नहीं है, लेकिन यह कुछ स्थितियों में योगदान कर सकती है जो हृदय स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं।

हृदय संबंधी कुछ समस्याओं पर एक नज़र डालें जो कैल्शियम की कमी से जुड़ी हो सकती हैं:

1. उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप)

कैल्शियम रक्तचाप को सामान्य सीमा के भीतर बनाए रखने में भूमिका निभाता है। विशेषज्ञ का कहना है कि जब कैल्शियम का स्तर अपर्याप्त होता है, तो इससे रक्तचाप में वृद्धि हो सकती है, जिसे अगर अनियंत्रित छोड़ दिया जाए, तो हृदय रोग और स्ट्रोक जैसी हृदय संबंधी बीमारियों के विकास में योगदान हो सकता है।

2. हृदय संबंधी अतालता

हृदय में विद्युत प्रणाली के समुचित कार्य के लिए कैल्शियम आवश्यक है। जब कैल्शियम का स्तर असंतुलित होता है, तो यह हृदय की लय को नियंत्रित करने वाले विद्युत संकेतों को बाधित कर सकता है, जिससे अनियमित दिल की धड़कन या अतालता हो सकती है।

3. कोरोनरी धमनी रोग

कैल्शियम की कमी सीधे तौर पर कोरोनरी धमनी रोग का कारण नहीं बनती है, लेकिन यह उन स्थितियों से जुड़ी हो सकती है जो इसके विकास में योगदान करती हैं। उदाहरण के लिए, अपर्याप्त कैल्शियम के सेवन से उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है, ये दोनों कोरोनरी धमनी रोग के जोखिम कारक हैं, विशेषज्ञ का कहना है।

4. ऑस्टियोपोरोसिस और हृदय रोग कनेक्शन

यदि किसी को पर्याप्त कैल्शियम नहीं मिल रहा है, तो यह उनकी हड्डियों को कमजोर बना सकता है और ऑस्टियोपोरोसिस के विकास में योगदान कर सकता है। ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित लोगों में हृदय संबंधी समस्याएं विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है, जो संभावित रूप से उम्र, हार्मोन असंतुलन और सूजन जैसे साझा जोखिम कारकों के कारण हो सकता है।

स्वस्थ हृदय के लिए आदर्श कैल्शियम का सेवन क्या है?

विशेषज्ञ का कहना है कि कैल्शियम का कोई विशिष्ट आदर्श स्तर नहीं है जो स्वस्थ हृदय बनाए रखने के लिए सार्वभौमिक रूप से सभी पर लागू हो। हृदय स्वास्थ्य के लिए इष्टतम कैल्शियम का स्तर व्यक्तिगत कारकों, जैसे उम्र, लिंग, समग्र स्वास्थ्य स्थिति और किसी भी अंतर्निहित चिकित्सा स्थितियों के आधार पर भिन्न हो सकता है। हालाँकि, आमतौर पर यह सिफारिश की जाती है कि वयस्कों को उम्र और लिंग के आधार पर लगभग 1000 से 1300 मिलीग्राम दैनिक कैल्शियम सेवन का लक्ष्य रखना चाहिए।

उदाहरण के लिए, 19 से 50 वर्ष की आयु के वयस्क पुरुषों और महिलाओं को प्रतिदिन 1000 मिलीग्राम कैल्शियम लेना चाहिए। 51 वर्ष और उससे अधिक उम्र की महिलाओं को इसे प्रतिदिन 1200 मिलीग्राम तक लेना चाहिए। इसमें आहार कैल्शियम के साथ-साथ यदि आवश्यक हो तो पूरक आहार से प्राप्त कैल्शियम भी शामिल है। लेकिन सुनिश्चित करें कि आपके परिवार का सदस्य बहुत अधिक कैल्शियम का सेवन न कर रहा हो क्योंकि शरीर में कैल्शियम का अत्यधिक स्तर हृदय और हृदय प्रणाली पर विभिन्न प्रभाव डाल सकता है।

(टैग्सटूट्रांसलेट)कैल्शियम की कमी दिल(टी)कैल्शियम दिल को प्रभावित करता है(टी)कम कैल्शियम दिल में दर्द का कारण बनता है(टी)कैल्शियम और दिल(टी)कैल्शियम की कमी(टी)हृदय स्वास्थ्य में कैल्शियम की भूमिका(टी)कम कैल्शियम दिल की विफलता(टी) स्वास्थ्य शॉट्स
Read More Articles : https://newsbank24h.com/category/health-and-wellness/

Scroll to Top